बच्चों के पेट के कीड़े मारने के घरेलू उपाय | Baccho Ke Pet ke Kide Marne Ke Gharelu Upay

छोटे बच्चो के पेट मे कीड़े होना एक आम परेशानी हैं। बच्चो के विकास के साथ स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी बढ़ने लगती हैं।  उनमें से एक समस्या पेट में कीड़े होने की है। ये कीड़े पेट की आंतों में पनपते हैं। इन्हें पिनवर्म, सीटवर्म और थ्रेडवर्म  के नाम से जाना जाता है।पेट के ये  कीड़े बच्चों को ही नहीं बल्कि बड़ों को भी परेशान करते हैं। लेकिन ज्यादातर संक्रमण बच्चों में ही देखने को मिलता है। कुछ घरेलू उपाय करके पेट में कीड़े होने की समस्या से निजात पाई जा सकती हैं। इस लेख में हम बच्चों के पेट में कीड़े मारने के घरेलू उपाय  के बारे में जानेंगे। इसके अलावा हम यह भी जानेंगे कि बच्चों के पेट में कीड़े क्यों पड़ते हैं और कीड़े पड़ने पर हम इसका पता कैसे लगा सकते हैं।

baccho ke pet ke kide marne ke gharelu upay

बच्चो के पेट में कीड़े क्यो पड़ते हैं? (Baccho Ke Pet Me Kide Kyo Padte Hain)

आपके घर में कोई  व्यस्क व्यक्ति पेट में कीड़े होने की समस्या से ग्रसित है तो बच्चों में भी यह संक्रमण फैलने का खतरा रहता है।  बच्चों के पेट में कीड़े क्यों पड़ते हैं इसके कारण नीचे दिए गए हैं-

  1. बच्चे अक्सर मिट्टी में खेलते हैं जिस कारण वह संक्रमित मिट्टी के संपर्क में आ जाते हैं। मिट्टी में मौजूद कीड़े के अंडे शरीर में आसानी से प्रवेश कर जाते हैं|
  2. बासी या दूषित भोजन ग्रहण करने की वजह से भी बच्चों के पेट में कीड़े पड़ सकते हैं।
  3. पालतू जानवरों के साथ खेलने के कारण भी परजीवी ओ का शरीर में पहुंचने का खतरा  बना रहता है।
  4. गंदे बिस्तर और कपड़ों के उपयोग से भी परजीवी आओ का शरीर में पहुंचने का खतरा रहता है।
  5. कम पके मांस के सेवन से भी पेट में कीड़े पड़ जाते हैं ।
  6. बच्चों के गुदा क्षेत्र में खुजली होती है तब वह नाखूनों के माध्यम से कीड़ों के अंडे को ग्रहण कर सकते हैं। यह भी पेट में कीड़े होने का एक मुख्य कारण हैं।
  7. बाहरी भोजन जैसे चाट, नूडल्स, टिकिया का सेवन करने से भी पेट में कीड़े हो सकते हैं। क्योंकि बाहरी खाना बनाने में साफ सफाई पर विशेष ध्यान नहीं दिया जाता है|बच्चों के पेट में कीड़े होने का पता कैसे करें

बच्चो के पेट में कीड़े होने का पता कैसे करें?(baccho ke pet me kide hone ka pata kaise karen)

आपको लगता है कि आपका बच्चा पेट में कीड़े होने की समस्या से संक्रमित है तो आप इसका निम्न संकेतों के द्वारा पता लगा सकते हैं-

  1. अगर बच्चे के पेट में कीड़े हैं तो रात में सोते समय उनके गुदा क्षेत्र में खुजली होती है। जिस कारण से उनकी नींद भी खराब होती है इस संकेत से आप समझ सकते हैं कि आपका बच्चा इस समस्या से संक्रमित हैं।
  2. गर्ल चाइल्ड के पेट में  कीड़े होते हैं तब उनके योनि के आसपास का क्षेत्र अधिक प्रभावित रहता है। जिस कारण योनि में खुजली और स्राव होता है।
  3. गुदा के आसपास बैक्टीरियल इन्फेक्शन होने कारण अत्यधिक खुजली होती हैं। जो पेट मे कीड़े होने की ओर इशारा करता हैं।
  4. यह समस्या होने पर बच्चों में अक्सर चिड़चिड़ापन और मानसिक तनाव जैसे लक्षण  देखने को मिलते हैं।
  5. जब यह संक्रमण अधिक बढ़ जाता है तब उल्टी और बुखार के लक्षण सामने आते हैं।
  6. यदि आपको कोई गंभीर लक्षण नजर आए तब बिना देर करें डॉक्टर का परामर्श जरूर ले।

बच्चों के पेट के कीड़े मारने के घरेलू उपाय (Baccho Ke Pet ke Kide Marne Ke Gharelu Upay)

बच्चों के पेट के कीड़े मारने के लिए नीचे कुछ उचित घरेलू उपचार दिए गए हैं जिन्हें आप डॉक्टर की सलाह से इस्तेमाल कर सकते हैं-

अजवाइन : अजवाइन भी एक गुणकारी कृमि नाशक घरेलू औषधि है। इसके सेवन से बच्चों को पेट में कीड़े होने की समस्या से जल्द निजात मिल जाती है।

लहसुन : बच्चों के पेट के कीड़े खत्म करने के लिए लहसुन का सेवन भी है उत्तम घरेलू उपाय हैं। लहसुन के अंदर इंसानों के पेट उपस्थित कीड़ों के साथ-साथ जानवरों के पेट के कीड़े मारने की क्षमता होती है।

करेला : पेट के कीड़े मारने के लिए घरेलू उपाय के तौर पर बच्चों को करेला खिलाया जा सकता है। करेला एक अत्यंत गुणकारी क्रमीनाशक औषधि है।

कद्दू के बीज :  कद्दू के बीज भी पेट के कीड़े मारने तो एक अच्छा घरेलू उपाय है। कद्दू के बीज 89% तक टेपवार्म संक्रमण को खत्म कर सकते हैं ऐसा एक शोध में बताया गया है|

पपीता :  पेट के कीड़े मारने के लिए आप बच्चों को पपीता खाने के लिए दे सकते हैं। पपीता एक औषधीय गुणों से भरपूर फल है। इसके बीच में कृमि नाशक गुण पाया जाता है जो आंतों में उपस्थित कीड़ों को खत्म करने का काम करता है।

नीम :  नीम के पत्ते भी चिकित्सकीय गुणों से भरपूर होते हैं। जो आपके बच्चों के पेट के कीड़े मारने में सक्षम हैं। नीम का रस इस समस्या से जल्द आराम  दिला सकता हैं। नीम के सेवन से पहले अपने डॉक्टर का परामर्श जरूर ले

लौंग :  लोंग वे उस दिन गुणों का भंडार है। जिसका उपयोग लंबे समय से शारीरिक समस्याओं को दूर करने में किया जा रहा है। आप भी लोगों का इस्तेमाल बच्चों के पेट के कीड़े मारने में कर सकते हैं।

गाजर :  गाजर खाना भी बच्चो के पेट के कीड़े मारने में फायदेमंद माना गया हैं। अब डॉक्टर की सलाह पर अपने बच्चों को गाजर खिला सकती हैं।

नारियल : नारियल पानी का सेवन भी बच्चों को पेट के कीड़े की समस्या से निजात दिलाता है। इसके पानी को पीने से कीड़े मरकर शरीर से बाहर निकल जाते हैं।

हल्दी : सालों से हल्दी का इस्तेमाल मानव शरीर की कई समस्याओं को दूर करने में किया जा रहा है। हल्दी कई ऐसे गुणों से भरपूर होती है जो बच्चों को पेट के कीड़े मारने में मदद कर सकती हैं। आप थोड़ी मात्रा में बच्चों को हल्दी पाउडर दे सकती हैं

बच्चों के पेट में कीड़े होने से कैसे रोके? (Baccho Ke Pet Me Kide Hone Se Kaise Roke)

आप बच्चों के पेट में कीड़े होने से रोकने के लिए निम्नलिखित सुझाव पर ध्यान दे-

  1. हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि शौच के बाद और खाने से पहले बच्चों के हाथ अच्छे से धुले हुए हैं या नहीं।
  2. बच्चे को हमेशा हेल्दी फूड खाने को दे।  बाहर का खाना कम से कम खाने दे।
  3. बच्चों को अधिक मीठी चीजें चॉकलेट, मैदा से बनी चीजों का सेवन कम से कम करने दे।
  4. सब्जी को अच्छी तरह से धोकर इस्तेमाल करें ध्यान रहे कि उन पर कोई मिट्टी ना लगी हो।
  5. बच्चों के हाथ पैर के नाखून हमेशा टाइम पर काटते रहे ताकि नाखूनों के अंदर गंदगी जमा ना होने पाए।
  6. बाहर से खेल कर आने के बाद बच्चे के हाथ पर अच्छे से धुलाए।
  7. प्रतिदिन अच्छे से स्नान कराएं ताकि शारीरिक गंदगी दूर हो सके।
  8. साफ-सुथरे  बिस्तर और कपड़ों का इस्तेमाल करें।
  9. टॉयलेट सीट और बाथरूम की साफ सफाई पर विशेष ध्यान दें।
  10. पेट में कीड़े होने के संक्रमण के अधिक लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बच्चों के पेट में कीड़े होना वैसे तो एक आम बात है। लेकिन समय रहते हैं इस समस्या पर अगर ध्यान ना दिया जाए तो यह एक गंभीर रूप ले लेती है। बच्चों के खान-पान और स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें और समय रहते लक्षणों को पहचान कर उचित इलाज कराएं। उम्मीद करते हैं इस लेख में दी गई जानकारी आपके बहुत काम आएगी और आप चाहेंगे कि यह जानकारी आपके परिजनों और दोस्तों को भी मिले तो आप इस आर्टिकल को शेयर जरूर कीजिएगा।

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top