मोरिंगा फली की सब्जी खाने के 11 बड़े फायदे और कुछ नुकसान | Surajne ki fali khane ke fayde

मोरिंगा (सहजन) की फली को आमतौर पर सब्जी बनाकर खाया जाता हैं. यह फलीे जितनी स्वाद से भरपूर होती हैं, उतनी ही सेहत के लिए लाभकारी भी होती हैं. मोरिंगा की फली बाजार में आसानी से मिल जाती हैं| आयुर्वेद के अनुसार सहजन के फूल, पत्ती भी उतने ही फायदेमंद होते हैं, जितनी की यह फली. भारत देश मोरिंगा का सबसे बड़ा उत्पादक देश हैं| यहाँ हर साल लगभग 1.1 से 1.3 मिलियन टन इसका उत्पादन होता हैं. सहजन को कई राज्यों में सुरजने की फली के नाम से भी जाना जाता हैं. अंग्रेजी में इसे मोरिंगा (Moringa) और ड्रम स्टिक (Drum Stick) के नाम से जाना जाता हैं.  दर्द मुक्ति के इस लेख में हम मोरिंगा फली की सब्जी खाने के फायदे और नुकसान  (Surajne ki fali khane ke fayde or nuksan) के बारे में विस्तार से जानेंगे.

surajne ki fali khane ke fayde or nuksan

Table of Contents

मोरिंगा (सहजन) फली के पोष्टिक गुण – Moringa (Surajne) Ki Fali Me Kya Paya Jata Hain

सहजन (Sahjan) फली की सब्जी खाने के फायदे इसमे मौजूद पौष्टिक गुणों के कारण ही मिलते हैं। पोषक तत्वों की बात करे तो सहजन में फाइबर, प्रोटीन, विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, विटामिन डी, कैल्शियम, कार्बोहायड्रेट, मैग्नीशियम, कापर, मैगनीज़, सोडियम, जिंक, सेलेनियम, आयरन, पोटेशियम, फास्फोरस के अलावा और भी कई अन्य तत्व पाए जाते हैं।

मोरिंगा (सहजन) फली की सब्जी खाने के फायदे  – Moringa (Surajne) Fali Ki Sabji Khane Ke Fayade 

मोटापे में मोरिंगा फली की सब्जी के फायदे

यदि आप बढ़ते मोटापे को लेकर चिंतित हैं, तो आपके लिए मोरिंगा (सुरजने) की फली का  सेवन करना बहुत फायदेमंद साबित हो सकता हैं. हरी सब्जियों में सहजन को शामिल करने से शरीर की अतिरिक्त चर्बी को घटाने में कुछ हद तक मदद मिल सकती हैं. मोरिंगा में क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic Acid) और एंटी-ओबेसिटी गुण मौजूद होती हैं. सहजन के ये गुण मोटापे की समस्या को बढ़ने से रोकने में मदद करते हैं. इसलिए आप सुरजने की फली को पोष्टिक खाद्य पदार्थ के रूप में शामिल कर सकते हैं.

कैंसर में सहजन की साग खाने के फायदे

मोरिंगा फली की सब्जी का सेवन कैंसर जैसी बीमारी होने के खतरे को भी कम करती हैं. सहजन के पेड़ की छाल, पत्ते,और फली में एंटी कैंसर और एंटी एंटी-ट्यूमर गुण होते हैं. इसके अलावा मोरिंगा की पत्तिया पॉलीफेनोल्स ,पॉलीफ्लोनोइड्स एंटी कैंसर और एंटी ओक्सिडेंट योगिक होते हैं. सहजन के यह गुण इस गंभीर बीमारी के होने के खतरे को कम करते हैं.

मोरिंगा फली की सब्जी खाने के फायदे मधुमेह में

सहजन (Sahjan) की सब्जी खाने का फायदा मधुमेह के मरीजो को भी मिलता हैं. क्योंकि मोरिंगा की फली, पत्ती, छाल में एंटी-डायबिटिक गुण मौजूद होते हैं, जो रक्त में शर्करा के स्तर को कम करने में लाभकारी साबित होते हैं. यदि मोरिंगा की सब्जी को आप पसंद नही करते हैं तो सहजन की पत्ती की टेबलेट का सेवन डॉक्टर की सलाह से कर सकते हैं.

हड्डियों ले लिए सुरजने की फली खाने के फायदे

जैसे- जैसे उम्र बढती हैं, हमारे शरीर की हड्डिया कमजोर होने लगती हैं. उम्र के साथ  हड्डियों के सेहत का ध्यान रखना बहुत जरुरी होता हैं. मोरिंगा फली की सब्जी का सेवन इस समस्या में लाभकारी साबित हो सकता हैं. सुरजने की फली में कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम अच्छी मात्र में पाया जाता हैं, जिन्हें हड्डियों के लिए जरुरी पोषक तत्त्व माना गया हैं. इसके अलवा मोरिंगा की फली में और भी कई गुण पाए जाते हैं, जो हड्डी की बीमारी ऑस्टियोपोरोसिस के होने के खतरे को भी कम करते हैं.

हृदय के लिए सहजन सेवन के लाभ

अच्छी सेहत के लिए हमारे दिल की सेहत का अच्छा रहना बहुत जरुरी होता हैं. यदि आप हार्ट को स्वस्थ रखना चाहते है तो, आपको सहजन की साग को अपने भोजन का हिस्सा जरुर बनाना चाहिये. मोरीगा फली और इसके पत्तो में उच्च मात्रा में एंटीओक्सिडेंट गुण पाए जाते हैं. जो हार्ट से सम्बंधित बीमारिया होने से बचाने में मददगार होते हैं. इसकी पत्ती में बीटा केरोटीन होता हैं, जो एंटी ओक्सिडेंट की तरह काम कर ह्रदय रोगों से बचाता हैं. इसलिए मोरिंगा की पत्तिया भी फायदेमंद हैं.

मोरिंगा की सब्जी के फायदे एनीमिया में

भारत देश में ज्यादातर महिलाओ और बच्चो में खून की कमी की समस्या देखने को मिलती हैं. मोरिंगा फली की सब्जी खाने से लाल रक्त कोशिकाओ की कमी को दूर किया जा सकता हैं. सुरजने की फली में आयरन और एंटी-एनीमिया गुण होते हैं, जो शरीर में हिमोग्लोबिन के स्तर में सुधार करने सहायक हैं. इसके अलावा इसका सेवन नई रेड ब्लड सेल्स के उत्पादन में भी मददगार होता हैं.

मस्तिष्क के लिए सुरजने की फली के लाभ

मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए भी मोरिंगा फली की सब्जी खाने के फायदे देखे गए हैं.  उम्र बढ़ने के साथ-2 भूलने की बीमारी (अलजाइमर) जैसी कई मस्तिष्क से संबंधित बीमारी होने की सम्भावना बढ़ जाती हैं. सहजन का सेवन इन समस्याओ से बचाव में सहायता करता हैं. मोरिंगा दवाई की तरह काम कर याददाश्त को बढ़ाने में मदद करती हैं. इसलिए लम्बी उम्र तक दिमाग की सेहत ठीक बनाये रखने के लिए मोरिंगा का सेवन जरुर करे.

लीवर के लिए मोरिंगा फली सेवन के लाभ

तले-भुने और गलत खानपान करने के कारण लीवर के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता हैं. इसलिए समय रहते अपनी डाईट में पोष्टिक तत्त्व युक्त आहार को जरुर शामिल करना चाहिये. मोरिंगा फली की सब्जी का सेवन लीवर के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में किया जा सकता हैं. सहजन में क्वारसेटिन नामक फ्लैवनॉल पाए जाते हैं, जो लीवर से सम्बंधित बीमारियों के जोखिम को कम करने में मददगार होते हैं.

इम्युनिटी बढ़ाने में सहायक है  सहजन

आज के समय में बीमारियों के प्रकोप को देखते हुए हर व्यक्ति अपनी इम्युनिटी को लेकर बहुत चिंतित हैं. क्यों कि कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता कई रोगों का कारण बनती हैं. इम्युनिटी को बेहतर बनाने में मोरिंगा फली की सब्जी का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता हैं. सहजन (Sahjan) में कई प्रकार के पोष्टिक तत्त्व पाए जाते हैं, रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं. लेकिन इस बात का ध्यान रखे की इसकी संतुलित मात्रा का सेवन करे क्योकि मोरिंगा में इसोथियोसीयानेट और ग्लाइकोसाइड सायनाइड जैसे जहरीले तत्व होते हैं. जो तनाव को बढ़ाते हैं.

मोरिंगा फली की सब्जी के फायदे पेट के लिए

मोरिंगा फली की सब्जी का सेवन करने से पेट दर्द, अल्सर, पाचन सम्बंधित समस्याए में लाभ देखे गए हैं. सहजन की फली में एंटी अल्सर गुण होते हैं, जो अल्सर के जोखिम को कम करने में मददगार हैं. इसके अलावा सहजन में फाइबर की मात्रा भी पाई जाती हैं, जो पेट दर्द और कब्ज़ की समस्या में भी राहत पहुंचाती हैं. इसलिए सहजन को अपने दैनिक आहार में जरुर शामिल करे.

सुरजने की फली खाने के फायदे त्वचा के लिए

त्वचा से सम्बंधित समस्याओ को नज़रंदाज़ नही करना चाहिये क्यों कि आपकी त्वचा आपके अच्छे और बुरे स्वास्थ्य को बताती हैं. त्वचा पर मौजूद काले दाग-धब्बे, मुंहासे, झुर्रिया शरीर में बेक्टिरियल संक्रमण की और इशारा करते हैं. मोरिंगा की फली में मौजूद एंटी ओक्सिडेंट और एंटी बेक्टिरियल गुण इन समस्याओ से निजात दिलाने में मददगार होते हैं. यही कारण हैं कि त्वचा रोगों से बचाओ करने के लिए मोरिंगा फली या इसके पत्ते को अपने आहार में जरुर शामिल करना चाहिये.

मोरिंगा (सहजन) खाने के तरीके – Moringa (surajne) Fali Khane Ke Tarike

नीचे मोरिंगा की फली खाने के कुछ आसन तरीके बताये गए हैं :-

  1. सहजन की फली को उबालकर सूप बनाकर पी सकते हो.
  2. मोरिंगा फली की आप सब्जी बनाकर खा सकते हो.
  3. मोरिंगा के पत्ते की भी सब्जी बनाई जा सकती हैं.
  4. सुरजने के पत्ते की गोली भी बाजार में मिल जाती हैं, आप डॉक्टर की सलाह से सेवन कर सकते हो.
  5. सहजन का उपयोग सांभर बनाने में भी किया जाता हैं.

मोरिंगा (सहजन) फली की सब्जी खाने के नुकसान – Surajne Ki Fali Khane Ke Nuksan In Hindi

यदि देखा जाये तो मोरिंगा फली की सब्जी खाने के फायदे अधिक और नुकसान कम ही देखने को मिलते हैं. फिर भी किसी खाद्य पदार्थ का अति सेवन और विशेष परिस्तिथियों में सेवन नुकसान दायक हो सकता हैं-

  1. मोरिंगा फली की सब्जी का अतिसेवन करने से पेट दर्द, कब्ज़, और दस्त की शिकायत हो सकती हैं.
  2. लो ब्लड शुगर के मरीजो को सहजन की फली का सेवन कम करना चाहिये क्यों कि अधिक सेवन करने से रक्त में शर्करा का स्तर और कम हो सकता हैं.
  3. गर्भवती महिलाओ को सहजन की फली का सेवन डॉक्टर के परमर्श से करना चाहिये.
  4. गंभीर बीमारियों से पीड़ित मरीजो को मोरिंगा का सेवन डॉक्टर की सलाह से करना चाहिये.
  5. यदि मोरिंगा फली के सेवन से कोई एलर्जी हो तो इसका सेवन डॉक्टर की सलाह से करे। 

दर्द मुक्ति के इस लेख में हमने मोरिंगा फली की सब्जी खाने के फायदे (surajne ki fali khane ke fayde or nuksan) और नुकसान के बारे में विस्तार से जाना। इसके अलावा हमने इसके पौष्टिक गुणों और खाने के अलग-2 तरीके के बारे में में पढ़ा। उम्मीद करते है, आपके लिए ये जानकारी उपयोगी साबित होगी। आप इस जानकारी को अपने मित्रों और प्रियजनों से भी शेयर कीजियेगा। ताकि वह भी इसे पढ़कर मोरिंगा के लाभ उठा सके।

Leave a Comment